• My Nearest City
  • Degana
  • Didwana
  • Jayal
  • Kheenvsar
  • Kuchaman
  • Ladnu
  • Makrana
  • Merta
  • Nagaur
  • nawa
  • Parbatsar
Nagaur

सरकार दे ध्यान तो हो सकता है काम, नावा में बन सकती है एक शानदार चौपाटी, आमजन को घूमने के लिए मिल सकता है एक उपयुक्त स्थान l

मनोज गंगवाल रिपोर्टर

नावां सिटी:-नावां उपखंड मुख्यालय पर स्टेशन बालाजी का मन्दिर बहुत ही पुराना व दर्शनीय स्थल है। इसमें बालाजी की प्रतिमा बहुत ही चमत्कारी है। इस मन्दिर का निर्माण इतिहास के पन्नों में बण्जारो के द्वारा करवाया गया बताया है। बण्जारें यहां नमक भरने आते थे और नमक इस नाडी के नजदीक एकत्रित कर बालद में भर कर ले जाते थे। उस समय पीने के पानी की काफी समस्या होती थी। इस समस्या के निदान के लिए उन्होने इस नाडी का निर्माण करवाया था। नाडी खुदवाने के साथ साथ मन्दिर निर्माण का कार्य भी शुरू किया था। यातायात साधन नही होने के कारण नमक का क्रय विक्रय बण्जारों के द्वारा ही किया जाता था। आज के हालातों की बात करते है तो ये मन्दिर अपनी पुरातत्वता के लिए मशहुर है। गत 15 वर्ष पुर्व इस नाडी में पानी का भराव बहुत अधिक होता था। क्यों कि शहर का पानी इसी नाडी में एकत्रित होकर नाडी की सुन्दरता को चार चांद लगा देता था। परन्तु अब शहर का गंदा पानी इसी मार्ग की और आता है लेकिन स्वच्छ नही होने के कारण अन्य स्थान पर चला जाता है। पुर्व में ये नाडी टुट चुकी थी। अभी भी बड़ी बड़ी दिवारें नाडी की सुन्दरता बया करती है। लेकिन अब इस नाडी का विकास कैसे हो। ये बात बहुत ही विचारणीय है राजस्थान सरकार द्वारा प्रदेश की नगर पालिकाओं में सौन्दर्यकरण के लिए करोड़ो रूपये सरकार खर्च करती है। पालिका ऐसे मनोरजन साधनों का निर्माण करती है जिससे आम जन को राहत मिल सके और धुमने फिरने के लिए एक जगह निर्धारित हो सके । नावां में धुमने के लिए केवल एक स्थान मात्र गांधी पार्क है। जोक भी जनसंख्या के हिसाब से बहुत ही
छोटा है। लेकिन फिर भी नगरपालिका उसके सौन्दर्यकरण के लिए प्रयास करती रहती है शहर के अन्य किसी स्थान के विकास के बारे में ध्यान केंद्रित नहीं कर रही जिससे क्षेत्र के लोगों को घूमने व फिरने के लिए उपयुक्त स्थान नहीं मिल रहा है पालिका प्रशासन व सरकार दे ध्यान तो नावा सिटी में चौपाटी बनने का हो सकता है काम।
अब हम बात करते है नावा चौपाटी की। ये मुयत-आगामी महिनों में शहर के लिए एक ऐतिहासिक विकास कार्य हो सकता है। इस कार्य में अनुमानित राशि लगभग 6 से 10 करोड़ रूपये खर्च होने की सभावंना है। क्यों कि राजस्थान सरकार प्रत्येक चौपाटी के निर्माण के लिए इससे अधिक राशि भी स्वीकृत कर सकती है। इस चौपाटी का निर्माण कार्य स्टेशन नाडा बालाजी का मन्दिर में स्थित नाडी के रूप में किया जाए तो ऐतिहासिक कार्य हो सकता है उम्मीद है आगामी दिनों में सरकार व नगर पालिका नावा इस उपयुक्त जगह का प्रयोग कर एक सुंदर चौपाटी का निर्माण कर आमजन को सौगात देगी । पालिका नाडी के सौन्दर्यकरण के लिए दीवारों का नवीनीकरण करवाएं। दीवारों के राजस्थानी आर्ट के चित्रित भी कर रग बिरंगी सिनेरिया बनाए। नाडी में चारों और बाग का निर्माण करें। मार्बल के फव्वारों का निर्माण करें। इनमें रगं बिरगी लाइटों से चौपाटी दुर से ही अपनी सुन्दरता बया कर देगी। दो बड़े बड़े गेट का निर्माण करवाकर स्टेशन नाडा बालाजी की नाड़ी को नया स्वरूप देकर चौपाटी का निर्माण करवाया जा सकता है। शहर में नावां चौपाटी का नाम जल्द ही शहरवासियों के लिए सौगात बन सकता है।

Visited 152 times, 16 Visits today

Leave a Reply

Connect with