Chandrasekhar Saboo

 

दीपक कुमार शर्मा।

नावां शहर. ऐसे तो नावां शहर नमक नगरी के रूप विख्यात है। लेकिन यहां का सबसे पुराना उधोग चक्की व एमरी पत्थर बनाने का हैं। इसकी पूरी देन नावां के सबसे बड़े उधोगपतियों व भामाशाह में से पहचाने जाने वाले साबू परिवार से है। नावा की विश्व में अपनी पहचान एमरी पत्थर चक्की के रूप में भी रखती है। साबू परिवार में ६ जून १९३७ को जन्में मदनलाल साबू पुत्र कन्हैयाल लाल साबू का शुरुआती जीवन बहुत ही संघर्षों के साथ व्यतित हुआ। मदन लाल साबू ने प्राथमिक शिक्षा नावा नगर से तथा उच्च शिक्षा लखनऊ व कलकत्ता में प्राप्त की। उन्होंने अपने भाई दुर्गाप्रसाद साबू और राम प्रसाद साबू के साथ मिलकर पिपली बाजार में स्थित पुराने मकान में १९५७ में एमरी पत्थर उधोग को शुरू किया जो कि भारत का पहला एमरी पत्थर उद्योग है नगर में बिजली नही होने से हाथ से सभी कार्यों को किया जाता था। उस समय एमरी पत्थर चक्की डेनमार्क से आयात की जाती थी। उसके बाद १९६३ में पुखराज ब्रांड से एमरी पत्थर व चक्की के साथ अनाज, दाल, मसाले, सूखे केमिकल व तेल घाणी तथा बिजली से चलने वाले आटा दाल प्लांट व मशीनरी का निर्माण प्रारम्भ किया। चक्की व पत्थर की मांग अधिक होने पर स्थानीय लोगों को रोजगार देते हुए बड़ी तादात में व्यापार शुरू किया। जब बांग्लादेश आजाद हुआ था तब पाकिस्तान की फौज ने वहां की चक्कियों को समुंदर में डाल दिया था आटे की कमी को दूर करने बांग्लादेश ने भारत सरकार से साबू उद्योग की चक्कियों व एमरी स्टोन्स की मांग की और भारत सरकार ने पहली मालगाड़ी एमरी चक्की स्टोन की साबू परिवार से बांग्लादेश को लोड हुई। भारत सरकार की पहली व दूसरी पंचवर्षीय योजना में साबू इंडस्ट्रीज द्वारा हाथ एमरी चक्की मात्र 32 रुपए की लागत से अपने खर्च पर देश के विभिन्न क्षेत्रों में पहुचाई थी। साबू इंडस्ट्रीज वर्तमान में देश के सभी राज्यों में तथा विदेशों में नेपाल, बंग्लादेश, श्रीलंका , दुबई, इराक, सूडान,ईथोपिया,वेणुजुवला,मिस्र सहित अनेक देशों में पुखराज ब्रांड में एमरी चक्की पत्थर का विपणन व निर्यात होता है। इस समय मदनलाल साबू अपने पुत्र चंद्रशेखर साबू के साथ मिलकर उधोग का आधुनिकीकरण करके गति दे रहे है। इसके साथ चंद्रशेखर साबू की पुत्री विश्रुति साबू भी निर्यात को बढ़ा कर अपना अहम योगदान दे रही है। गत ६० वर्षों से अधिक के सफ़र में साबू परिवार को उद्योगो में उल्लैखनीय अविष्कार के लिए राष्ट्रपति द्वारा उधोग ताम्रपत्र अवार्ड, राजस्थान सरकार द्वारा बेस्ट एंटेरप्रोनियोर अवार्ड तथा मिस्र की सरकार द्वारा भी अवार्ड प्राप्त है। मदन लाल साबू राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा पाटिल के साथ कोरिया देश और चंद्र शेखर साबू ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ एथोपिया देश में व्यापारिक प्रतिनिधी मंडल में उद्योग का प्रतिनिधित्व किया।
समाजिक सेवा कार्य में भी मदन लाल साबू को राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से भामाशाह अवार्ड से सम्मानित किया गया है
ललिता देवी साबू ट्रस्ट के मध्यम से शिक्षा स्वस्थ्य और महिला सिलाई केंद्र का संचालन नियमित ट्रस्ट भवन में किया जाता है।

 

Other Details

Chandrasekhar Saboo

Business

+919414586062

Visited 200 times, 1 Visit today

Add a Review

Your Rating for this listing: